26

February 2020
नेशनल न्यूज़

फर्जी खबरें नये खतरे के रूप में सामने आई हैं - रामनाथ कोविंद

January 21, 2020 10:21 AM

नई दिल्ली। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा है कि फर्जी खबरें नये खतरे के रूप में सामने आई हैं, जिसका प्रसार करने वाले खुद को पत्रकार के रूप में पेश करते हैं और इस महान पेशे को कलंकित करते हैं। ‘रामनाथ गोयनका एक्सलेंस इन जर्नलिज्म’ पुरस्कार समारोह को यहां संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि ‘‘ब्रेकिंग न्यूज सिंड्रोम’’ के शोरशराबे में संयम और जिम्मेदारी के मूलभूत सिद्धांत की अनदेखी की जा रही है।
कोविंद ने कहा कि पुराने लोग ‘फाइव डब्ल्यू एंड एच’ ((व्हाट (क्या), व्हेन (कब), व्हाई (क्यों), व्हेयर(कहां), हू (कौन) और हाउ (कैसे)) के मूलभूत सिद्धांतों को याद रखते थे, जिनका जवाब देना किसी सूचना के खबर की परिभाषा में आने के लिये अनिवार्य था। उन्होंने कहा, ‘‘फर्जी खबरें नए खतरे के रूप में उभरी हैं, जिनका प्रसार करने वाले खुद को पत्रकार के तौर पर पेश करते हैं और इस महान पेशे को कलंकित करते हैं।’’ राष्ट्रपति ने कहा कि पत्रकारों को अपने कर्तव्य के निर्वहन के दौरान कई भूमिकाएं निभानी पड़ती हैं। उन्होंने कहा, ‘‘इन दिनों वे अक्सर जांचकर्ता, अभियोजक और न्यायाधीश की भूमिका निभाने लगते हैं।’’
कोविंद ने कहा कि सच तक पहुंचने के लिए एक समय में कई भूमिका निभाने की खातिर पत्रकारों को काफी आंतरिक शक्ति और अविश्वसनीय जुनून की आवश्यकता होती है। उन्होंने कहा, उनकी बहुमुखी प्रतिभा प्रशंसनीय है। लेकिन वह मुझे यह पूछने के लिए प्रेरित करता है कि क्या इस तरह की व्यापक शक्ति के इस्तेमाल के साथ वास्तविक जवाबदेही होती है? राष्ट्रपति कोविंद ने कहा कि सामाजिक और आर्थिक असमानताओं को उजागर करने वाली खबरों की अनदेखी की जाती है और उनका स्थान तुच्छ बातों ने ले लिया है।

 

Have something to say? Post your comment
और नेशनल न्यूज़
ताजा न्यूज़
बुलेटप्रूफ मंदिर में रामलला होंगे शिफ्ट भुज के बाद सूरत में फिटनेस टेस्ट के नाम महिलाओं के कपड़े उतरवाए गए सरकारी स्कूल में जाएंगी मेलानिया ट्रंप पीएम ने खाया लिटटी-चोखा, बिहार में गरमाई सियासत साउथ ब्लॉक से दिल्ली कैंट जाएगा सेना मुख्यालय विश्व हिंदू परिषद के मॉडल पर ही बनेगा राममंदिर सरकार मंदी शब्द को स्वीकार नहीं करती: मनमोहन (टोक्यो) कोरोना कहर: 'डायमंड प्रिसेंज' क्रूज पर 2 लोगों की मौत सुप्रीम कोर्ट ने बच्ची से दुष्कर्म के हत्या के दोषी के डेथ वारंट पर लगाई रोक भारत में साल-2023 तक इंटरनेट यूजर्स की संख्या 90 करोड़ पहुंच जाएगी देश में जनजातीय भूमि का डेटा बैंक होना चाहिए: मंत्री अर्जुन मुंडा जनता सहित कई ट्रेनें 31 मार्च तक निरस्त
Copyright © 2016 adhuniktimes.com All rights reserved. Terms & Conditions Privacy Policy